अँजुरी भर गुलाब

 अँजुरी भर गुलाब

डॉ अनुराधा ‘ ओस ‘

हालांकि प्रेम जताने जे लिए किसी सप्ताह की जरुरत नही पड़ती लेकिन फिर भी लोग तरह- तरह के गुलाबों का जिक्र कर रहे हैं।गुलाब किसको दिया जाना चाहिए गुलाब पाने की पात्रता क्या है?हर वो जो हमारे जीवन में गुलाबों सी खुशबू ले कर शामिल होता है।उसको गुलाब दिया जा सकता है।
जाने वो किस तरह का प्रेम होता है ?नकारे जाने पर लोग एसिड फेंक देते हैं, चेहरा बर्बाद तो होता ही है ,मानसिक रूप से कितनी पीड़ा पहुँचती है वो अलग सौ तरह की दिक्कतें ।
क्या वो प्रेम था?क्या था पता नही,हाँ लेकिन जो अंजुरी भर गुलाब फेंक कर चुपचाप चला जाए वो क्या था?उसको क्या कहेंगे?
पंखुड़ी पंखुड़ी छितरा कर सड़क पर बिखर गए,सड़क भी गुलाबी हो गयी,उन दिनों वेलेंटाइन डे का मालूम नही लेकिन
बसन्त का माह चल रहा था ,और उम्र भी हाईस्कूल की थी उसकी,स्कूल गेट से बस थोड़ी ही दूर अचानक एक जीप स्लो होती है और किसी ने दोअंजुरी गुलाब उन लड़कियों के सामने उलीच दिया,जीप की स्पीड बढ़ी और पल भर में ओझल हो, गयी । वो देख भी न पायीं की ये दुस्साहस किस मरे ने किया डर ,के मारे लड़कियां आस पास देखने लगी कि कोई देख तो नही रहा ।
ये ही असली का गुलाब दिवस है ।जिसकी पंखुड़ी -पंखुड़ी बिखर कर सारा समा सुगन्धित कर जाय ये होता है गुलाब दिवस।।

Related post