मख्खनबाजी और बेईमानी कम्पल्सरी है भाई!

 मख्खनबाजी और बेईमानी कम्पल्सरी है भाई!

आशीष तिवारी निर्मल लालगांव,रीवा,मध्यप्रदेश


जी हाँ !बिलकुल सही पढ़ा है आपने! खुद के द्वारा किए गए एक शोध से यह कहने में मुझे कोई गुरेज नही कि यह दुनिया सिर्फ और सिर्फ मख्खनबाजी और बेईमानी की बुनियाद पर टिकी हुई है! दुनिया में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति में मख्खनबाजी और बेईमानी का गुण विद्यमान है चाहे वह नर हो या नारी!मैं तो यह बात भी दावे के साथ कह रहा हूँ कि यदि मख्खनबाजी और बेईमानी का रास्ता छोड़ दिया जाएतो दुनिया जैसी चल रही है वैसे चल ही नहीं पाएगी! मख्खनबाजी और बेईमानी की राह छोड़ देने से सब तहस-नहस हो जाएगा! रिश्ते नाते खत्म हो जाएंगे! मख्खनबाजी और बेईमानी छोड़ देने से आपसी प्रेम और भाईचारा खत्म हो जाएगा! आपने कभी सोचा है कि एक औरत अपने पति के बारे में जो सोचती है वह कह ही नहीं सकती या एक पति अपने पत्नी के बारे में जो सोचता है वह कहता ही नहीं जीवन पर्यन्त क्यों ? क्योंकि यदि दोनों एक दूसरे को वह कह देंगे जो सच्चाई है तो यकीन मानिए दोनों के मध्य लाठीचार्ज की नौबत आ सकती है इसलिए दोनों मख्खनबाजी और बेईमानी का सहारा लेकर रिश्ते को लोकलाज के डर ढो रहे होते हैं! नौकर अपने मालिक से और मालिक अपने नौकर से एक दूसरे से वह कह ही नहीं सकते जो एक दूसरे के बारे में सोचते हैं ! मेरे जीवन में आपके जीवन में हजारों ऐसे लोग या दोस्त होंगे जिनको देखते ही लगता है जूता लेकर तब तक पीटो जब तक थक ना जाओ! लेकिन हम ऐसा चाहकर भी नहीं करते बेईमानी का सहारा लेते हैं मख्खनबाजी का सहारा लेते हैं और जूता मारने के बजाए हम उनको मालाएँ पहनाते हैं उस व्यक्ति से या दोस्त से अपने दिखावे के रिश्ते को जिंदा रखने के लिए! ठीक यही स्थित दो युगल प्रेमी जोड़ों के मध्य होती कुछ समयोपरांत दोनों का मन एक दूसरे से प्रेम करके ऊब चुका होता है लेकिन दोनों ढो रहे होते हैं एक दूसरे को,गाली देने का मन होता है लेकिन मख्खनबाजी और बेईमानी का सहारा लेते हैं और ताली देते हैं!मुहल्ले का कोई नीच,दुराचारी,शराबी,वैश्यागामी और कुत्ते के समान कुतृत्व का धनी व्यक्ति यदि मर जाए और लोग उसके यहाँ सांत्वना देने जाएं तो उसकी प्रशंसा में कसीदे पढ़ते हैं कि भला आदमी था! इनके जाने का दुख है!जबकि मन में यही चल रहा होता है कि उक्त व्यक्ति और पहले क्यों नहीं मर गया! जीवन में ज्यादा समय के लिए तो नहीं महज चौबीस घंटे के लिए ही आप या मैं मख्खनबाजी और बेईमानी का रास्ता छोड़ कर देंखे उस चौबीस घंटे में ही हम ना जाने जीवन भर के लिए कितने झमेले खड़े कर लेंगे! कुल मिलाकर मानव जीवन में व्यवहार, शिष्टाचार,सदाचार में मख्खनबाजी और बेईमानी का पूर्णतः समावेश हो चुका है! अब तो यह लगता है कि कोई व्यक्ति किसी के बहकावे में आकर इमानदारी और सच्चाई की राह पर ना चलने लगे वरना पग-पग पर अनिष्ट होने की आशंका बनी रहेगी! मुझे यह कहने में कोई संकोच नहीं कि मख्खनबाजी और बेईमानी कम्पल्सरी है भाई!तो फिर मख्खनबाजी और बेईमानी से डर कैसा ?मैं तो कहता हूँ कि शिक्षा नीति और पाठ्यक्रमों में मख्खनबाजी और बेईमानी को शामिल कर दिया जाए! जिससे आगामी पीढ़ी मख्खनबाजी और बेईमानी में पूर्णतः सिद्धहस्त और आत्मनिर्भर हो! समूचे विश्व के लोगों की एक ही धारणा होनी चाहिए कि-
जमकर खाए और जिए चलो मख्खनबाजी,बेईमानी किए चलो!

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *